फूलगोभी और ब्रोकली मे difference और इनके फायदे

फूलगोभी और ब्रोकली मे difference और फायदे

फूल गोभी से जुडी महतवपूर्ण जानकारियाँ

1) फूलगोभी को अंग्रेजी भाषा मे Cauliflower कहते है!

Note:- origin of the name of cauliflower is from Latin word caulis which means cabbage

2) वैज्ञानिक नाम : Brassica oleracea var. botrytis
3) जाती (Family) : ब्रेसिका ओलेरेशिआ (Brassica oleracea) (Mustard Family)
4) Origin : NorthEast Mediterranean

विभिन्न रंग की फूल गोभियाँ

वैसे तो सफ़ेद फूल गोभी सबसे अधिक मात्रा में उगाई जाती है परन्तु फूलगोभी कई अन्य रंग की भी होती है! जैसे की नीली, हरी आदि! फूल गोभी का रंग इनमे पाए जाने वाले अलग अलग पिग्मेंट के कारण होता है!

फूलगोभी और ब्रोकली मे difference और फायदे

कौन-कौन सी सब्ज़ी व अन्य खाने की चीज बना सकते है फूल गोभी से

1) सब्जी जैसे की आलू गोभी, शाही गोभी, कोफ्ता आदि
2) गोभी का सूप
3) गोभी का अचार
4) गोभी की सलाद
5) बिरियानी
6) गोभी का पकौडा
7) गोभी का परांठा आदि

फूल गोभी से जुडी मुख्य बातें

भारत में फूल गोभी की सब्जी एक बड़ी ही लोकप्रिय सब्जी है और लगभग सभी घरो में खायी जाने वाली सब्जी है! अक्सर फूल गोभी की सब्जी को आलू के साथ मिलाकर बनाया जाता हैं ! आलू और फूल गोभी की सब्जी आपको बड़े से बड़े होटल्स के मेनू में भी मिल जाएगी! गोभी की सब्जी को मिक्स वेज़ीटेबल की सब्जी में भी उपयोग किया जाता हैं! गोभी को अचार बना कर भी खाया जाता है!

फूल गोभी के पौधे का कौन सा हिस्सा हम खाते हैं!

फूल गोभी वैसे तो सुनने में किसी फूल का नाम लगता है परन्तु फूल गोभी भारत की एक बड़ी ही लोकप्रिय सब्जी है!
अक्सर आप सोचते होंगे की फूल गोभी के पौधे मे हम किस हिस्से को खाते हैं! हम फूल गोभी के पौधे का को फूल खाते हैं! जी हां फूल गोभी असलियत मे फूल गोभी के पौधे का फूल है जिसे हम अपने खाने मे प्रयोग करते हैं!

फूलगोभी और ब्रोकली मे अंतर और फायदे

पोषक तत्त्व

फूल गोभी की सब्जी में कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट विटामिन ए, विटामिन सी, मैग्नीशियम, फोलिक एसिड, सोडियम, प्रोटीन, जस्ता जैसे काफी महतवपूर्ण पोषक तत्त्व पाए जाते हैं! इसलिए गोभी हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद है!

फूलगोभी और ब्रोकली मे difference

फूल गोभी खाने के फायदे

गुड़ खाने के फायदे

1) फूल गोभी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूती प्रदान करता है

2) फूल गोभी में जलन को काम करने को काम करता है

3) यह ब्लड प्रेशर को काम करता है

4) इसमें मौजूद विटामिन स चर्बी काम करता है

5) ये हमारी पाचन क्रिया को दूर करता है

6) फूल गोबी हमारे पेट दर्द को भी दूर करता है

7) यह दिमाग के विकास और मजबूती और याद को मजबूत करने में मदद करता है

8) इसमें मौजूद फाइबर पाचन को दुरुस्त करता है

9) यह दिएबेटीज़ को नियंत्रण करने में काम आता है

10) यह लिवर को बेहतर तरिके से काम करने में मदद करता है

11) फूल गोभी कब्ज़ को दूर करता है

फूल गोभी का उत्पादन

चीन और भारत फूल गोभी का उत्पादन करने वाले देशो में सबसे अग्रणीय है!

फूल गोभी को घर में उगाने का तरीका

फूल गोभी को उगने के लिए नाम और रेतीली मिटटी की आवश्यकता होती है !

पौध लगाना

किसी छोटे गमले में फूल गोभी के पौधे की पौध लगा लें और जब पौध थोड़ी बड़ी हो जाये तो इसको निकाल कर किसी बड़े गमले में लगा लें! पौध निकलते वक़्त इस बात का ध्यान रहे की पौधे की जड़ो को कोई नुक्सान न हो

खाद

घर में बचे हुए सब्जियों के छिलको को सूखा के उनको मिटटी के साथ मिला कर उनकी खाद बना लें! इस तरह की खाद का उपयोग आप फूल गोभी के गमले में मिटटी के तोर पर कर सकते हैं! इसके अल्वा गोबर की खाद भी आसानी से उपलभ्द हो जाती हैं जिसका उपयोग आप गोभी के पौधे के लिए कर सकते हैं!

फूल गोभी और ब्रोकली में से आप किसे चुने

फूलगोभी और ब्रोकली मे अंतर और फायदे

फूल गोभी भारतीय मूल की सब्जी है परन्तु ब्रोकली एक विदेशी मूल की सब्जी है! हालांकि आज-कल ब्रोकली को भारत में भी उगाया जाने लगा है!

फूल गोभी और ब्रोकली दोनों एक ही फैमिली के पौधे है परन्तु लोग अक्सर फूल गोभी की जगह ब्रोकली को खाने में ज्यादा पसंद करते हैं! लोगो का ये भी मानना है की ब्रोकली हमारे शरीर के लिए ज्यादा पौष्टिक है बजाये फूल गोभी के!

वो सभी लोग जो इस बात को लेकर काफी उलझन में रहते हैं की फूल गोभी और ब्रोकली में से किसको खाने के लिए चुने तो उन लोगो को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की फूल गोभी और ब्रोकली दोनों ही सब्जियों के गुण लगभग समान होते हैं! हालांकि इनमे मौजूद पोषक तत्वों जैसे की विटामिन ऐ विटामिन सी, मैग्नीशियम, फोलिक एसिड आदि की मात्रा में थोड़ा अंतर होता हैं! ब्रोकली में इन पोषक तत्वों की मात्रा फूल गोभी की तुलना में ज्यादा होती है!

Read this Also:- रबी खरीफ और जायद फसल कि बीच अंतर

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *